Monday, July 17, 2017

What Is Jainism Or Jain Religion ?

Jainism is an ancient religion from India. It teaches us the way to liberation and shows the way how to live a life of harmlessness and renunciation. Renunciation is the act of renouncing or rejecting something, especially if it is something that the renouncer has previously enjoyed or endorsed.In religion, renunciation  indicates an abandonment of pursuit of material comforts, in the interests of achieving spiritual enlightenment.

Jainism traditionally known as Jain Dharma is an ancient Indian religion. Jainism followers are called "Jains", a word derived from the Sanskrit word jina (victor) and connoting the path of victory in crossing over life's stream of rebirths through an ethical and spiritual life.
 Jain Religion also refers to the ascetic battle that, it is believed, Jain renunciants (monks and nuns) must fight against the passions and bodily senses to gain enlightenment, or omniscience and purity of soul. 

The most illustrious of those few individuals who have achieved enlightenment are called Jina (literally, “Conqueror”), and the tradition’s monastic and lay adherents are called Jain (“Follower of the Conquerors”), or Jaina. This term came to replace a more ancient designation, Nirgrantha (“Bondless”), originally applied to renunciants only.

The aim of Jain life is to achieve liberation of the soul. It means, it teaches us how to get rid of attachment with material objects and remain detached from role we play in our life. We play the role of son, brother, sister,father, mother , teacher and many such other roles. But while playing these roles we have to keep our mental state detached from these relations and always remain in stable position. 

Jain religion teaches us that our soul is in its long journey just like other souls are in their own journey. Though all souls are originally same and like love, happiness, peace , bliss and purity , journey  of every souls is different and unique. 

Jainism does not believe in a Creator God .As per Jain principles, the entire material universe is self existing system. Everything in it , including the individual soul is an aspect of matter. Each should is eternal , but it has states, shapes and sizes. In the bound state (Bandha)  it is subject to Karma and Rebirth. It attains liberation only when it completely gets rid of karma. Jainism believes that karma is fluid like substance that remains attached to people and the should exists in all animate and inanimate objects.

Parasparopagraho Jivanam ("the function of souls is to help one another") is the motto of Jainism. Namokar Mantra is the most common and basic prayer in Jainism. Jainism is a religion which teaches a path to spiritual purity and enlightenment through disciplined nonviolence (ahimsa  literally “noninjury”) to all living creatures.

Jains trace their history through a succession of twenty-four victorious saviors and teachers known as Tirthankaras, with the first being Rishabhanatha, who is believed to have lived millions of years ago, and twenty-fourth being the Mahavira around 500 BCE. Jains believe that Jainism is an eternal dharma with the Tirthankaras guiding every cycle of the Jain cosmology.

The main religious premises of Jainism are 

Ahimsa ("non-violence"), 
Anekantavada ("many-sidedness"), 
Aparigraha ("non-attachment") and 
Asceticism. (the doctrine that a person can attain a high spiritual and moral state by practicing self-denial,self-mortification, and the like.rigorous self-denial; extreme abstinence; austerity.)

Followers of Jainism take five main vows: 
Ahimsa ("non-violence"), 
Satya ("truth"), 
Asteya ("not stealing"), 
Brahmacharya ("celibacy or chastity"), and 
Aparigraha ("non-attachment"). 

These principles have impacted Jain culture in many ways, such as leading to a predominantly vegetarian lifestyle that avoids harm to animals and their life cycles. 

Jains trace their history through a succession of twenty-four victorious saviors and teachers known as Tirthankaras, with the first being Rishabhanatha, who is believed to have lived millions of years ago, and twenty-fourth being the Mahavira around 500 BCE. Jains believe that Jainism is an eternal dharma with the Tirthankaras guiding every cycle of the Jain cosmology.

1. Metaphysics

According to Jain thought, the basic constituents of reality are 
Souls (jiva), 
Matter (pudgala), 
Motion (dharma), 
Rest (adharma), 
Space (akasa), and 
Time (kala). 

Space is understood to be infinite in all directions, but not all of space is inhabitable. A finite region of space, usually described as taking the shape of a standing man with arms akimbo, is the only region of space that can contain anything. This is so because it is the only region of space that is pervaded with dharma, the principle of motion (adharma is not simply the absence of dharma, but rather a principle that causes objects to stop moving). The physical world resides in the narrow part of the middle of inhabitable space. The rest of the inhabitable universe may contain gods or other spirits.

While Jainism is dualistic—that is, matter and souls are thought to be entirely different types of substance—it is frequently said to be atheistic. What is denied is a creator god above all. The universe is eternal, matter and souls being equally uncreated. The universe contains gods who may be worshipped for various reasons, but there is no being outside it exercising control over it. The gods and other superhuman beings are all just as subject to karma and rebirth as human beings are. By their actions, souls accumulate karma, which is understood to be a kind of matter, and that accumulation draws them back into a body after death. Hence, all souls have undergone an infinite number of previous lives, and—with the exception of those who win release from the bondage of karma—will continue to reincarnate, each new life determined by the kind and amount of karma accumulated. Release is achieved by purging the soul of all karma, good and bad.

Every living thing has a soul, so every living thing can be harmed or helped. For purposes of assessing the worth of actions (see Ethics, below), living things are classified in a hierarchy according to the kinds of senses they have; the more senses a being has, the more ways it can be harmed or helped. 

Plants, various one-celled animals, and 'elemental' beings (beings made of one of the four elements—earth, air, fire, or water) have only one sense, the sense of touch. Worms and many insects have the senses of touch and taste. Other insects, like ants and lice, have those two senses plus the sense of smell. Flies and bees, along with other higher insects, also have sight. Human beings, along with birds, fish, and most terrestrial animals, have all five senses. This complete set of senses (plus, according to some Jain thinkers, a separate faculty of consciousness) makes all kinds of knowledge available to human beings, including knowledge of the human condition and the need for liberation from rebirth.

2. Epistemology (the theory of knowledge, especially with regard to its methods, validity, and scope, and the distinction between justified belief and opinion.) and Logic

Underlying Jain epistemology is the idea that reality is multifaceted (anekanta, or 'non-one-sided'), such that no one view can capture it in its entirety; 
that is, no single statement or set of statements captures the complete truth about the objects they describe. 

Every school of Indian thought includes some judgment about the valid sources of knowledge (pramanas). While their lists of pramanas differ, they share a concern to capture the common-sense view; no Indian school is skeptical. 

The Jain list of pramanas includes sense perception, valid testimony (including scriptures), extra-sensory perception, telepathy, and kevala, the state of omniscience of a perfected soul.

Notably absent from the list is inference, which most other Indian schools include, but Jain discussion of the pramanas seem to indicate that inference is included by implication in the pramana that provides the premises for inference. 

That is, inference from things learned by the senses is itself knowledge gained from the senses; inference from knowledge gained by testimony is itself knowledge gained by testimony, etc. 

Later Jain thinkers would add inference as a separate category, along with memory and tarka, the faculty by which we recognize logical relations.

Since reality is multi-faceted, none of the pramanas gives absolute or perfect knowledge (except kevala, which is enjoyed only by the perfected soul, and cannot be expressed in language). 

As a result, any item of knowledge gained is only tentative and provisional. This is expressed in Jain philosophy in the doctrine of naya, or partial predication (sometimes called the doctrine of perspectives or viewpoints). According to this doctrine, any judgment is true only from the viewpoint or perspective of the judge, and ought to be so expressed. 

Given the multifaceted nature of reality, no one should take his or her own judgments as the final truth about the matter, excluding all other judgments. This insight generates a sevenfold classification of predications. The seven categories of claim can be schematized as follows, where 'a' represents any arbitrarily selected object, and 'F' represents some predicate assertible of it:

Perhaps a is F.
Perhaps a is not-F.
Perhaps a is both F and not-F.
Perhaps a is indescribable.
Perhaps a is indescribable and F.
Perhaps a is indescribable and not-F.
Perhaps a is indescribable, and both F and not-F.

Each predication is preceded by a marker of uncertainty (syat), which I have rendered here as 'perhaps.' Some render it as ‘from a perspective,’ or ‘somehow.’ However it is translated, it is intended to mark respect for the multifaceted nature of reality by showing a lack of conclusive certainty.

Early Jain philosophical works (especially the Tattvartha Sutra) indicate that for any object and any predicate, all seven of these predications are true. 

That is to say, for every object a and every predicate F, there is some circumstance in which, or perspective from which, it is correct to make claims of each of these forms. These seven categories of predication are not to be understood as seven truth-values, since they are all seven thought to be true. 

Historically, this view has been criticized (by Sankara, among others) on the obvious ground of inconsistency. While both a proposition and its negation may well be assertible, it seems that the conjunction, being a contradiction, can never be even assertible, never mind true, and so the third and seventh forms of predication are never possible. 

This is precisely the kind of consideration that leads some commentators to understand the 'syat' operator to mean ‘from a perspective.’ Since it may well be that from one perspective, a is F, and from another, a is not-F, then one and the same person can appreciate those facts and assert them both together. 

Given the multifaceted nature of the real, every object is in one way F, and in another way not-F. An appreciation of the complexity of the real also can lead one to see that objects are, as they are in themselves, indescribable (as no description can capture their entirety). This yields the fourth form of predication, which can then be combined with other insights to yield the last three forms.

Perhaps the deepest problem with this doctrine is one that troubles all forms of skepticism and fallibilism to one degree or another; it seems to be self-defeating. 

After all, if reality is multifaceted, and that keeps us from making absolute judgments (since my judgment and its negation will both be equally true), the doctrines that underlie Jain epistemology are themselves equally tentative. 

For example, take the doctrine of anekantevada. According to that doctrine, reality is so complex that any claim about it will necessarily fall short of complete accuracy. The doctrine itself must then fall short of complete accuracy. Therefore, we should say, "Perhaps (or “from a perspective") reality is multifaceted." At the same time, we have to grant the propriety, in some circumstances, of saying, "Perhaps reality is not multifaceted." Jain epistemology gains assertibility for its own doctrine, but at the cost of being unable to deny contradictory doctrines. What begins as a laudable fallibilism ends as an untenable relativism.

3. Ethics

Given that the proper goal for a Jain is release from death and rebirth, and rebirth is caused by the accumulation of karma, all Jain ethics aims at purging karma that has been accumulated, and ceasing to accumulate new karma. 

Like Buddhists and Hindus, Jains believe that good karma leads to better circumstances in the next life, and bad karma to worse. However, since they conceive karma to be a material substance that draws the soul back into the body, all karma, both good and bad, leads to rebirth in the body. No karma can help a person achieve liberation from rebirth. 

Karma comes in different kinds, according to the kind of actions and intentions that attract it. In particular, it comes from four basic sources: (1) attachment to worldly things, (2) the passions, such as anger, greed, fear, pride, etc., (3) sensual enjoyment, and (4) ignorance, or false belief. Only the first three have a directly ethical or moral upshot, since ignorance is cured by knowledge, not by moral action.

The moral life, then, is in part the life devoted to breaking attachments to the world, including attachments to sensual enjoyment. Hence, the moral ideal in Jainism is an ascetic ideal. 

Monks (who, as in Buddhism, live by stricter rules than laymen) are constrained by five cardinal rules, the "five vows": 
(1) Ahimsa, frequently translated "non-violence," or “non-harming,” 
2)  Satya, or truthfulness, 
3 ) Asteya, not taking anything that is not given, 
4 ) Brahmacharya, chastity, and 
5 ) Aparigraha, detachment. 

This list differs from the rules binding on Buddhists only in that Buddhism requires abstention from intoxicants, and has no separate rule against attachment to the things of the world. The cardinal rule of interaction with other jivas is the rule of ahimsa. This is because harming other jivas is caused by either passions like anger, or ignorance of their nature as living beings. 

Consequently, Jains are required to be vegetarians. According to the earliest Jain documents, plants both are and contain living beings, although one-sensed beings, so even a vegetarian life does harm. This is why the ideal way to end one's life, for a Jain, is to sit motionless and starve to death. Mahavira himself, and other great Jain saints, are said to have died this way. That is the only way to be sure you are doing no harm to any living being.


While it may seem that this code of behavior is not really moral, since it is aimed at a specific reward for the agent—and is therefore entirely self-interested—it should be noted that the same can be said of any religion-based moral code. Furthermore, like the Hindus and Buddhists, Jains believe that the only reason that personal advantage accrues to moral behavior is that the very structure of the universe, in the form of the law of karma, makes it so.

Sunday, June 25, 2017

Know About Jain Gotra

दिगम्बर जैन समाज का गोत्रानुसार इतिहास एवं परिचय

1.           साह गोत्र

      खण्डेलवाल दिगम्बर जैन समाज के 84 गोत्रों में साह गोत्र शाही गोत्र है। यह खण्डेला के महाराज खण्डेलगिरि का गोत्र है जो उन्हें जैन धर्म में दीक्षित करने तथा अहिंसा धर्म के परिपालन की प्रतिज्ञा लेने के पश्चात् दिया गया था। उन्हें खण्डेलवाल जैन जाति का प्रथम महापुरुष  होने तथा साह गोत्रीय कहलाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। वे चौहान राजपूत थे। सोम उनका वंश था। खण्डेला उनका नगर एवं चक्रेश्वरी देवी उनकी कुल देवी थी। उनको विक्रम सम्वत् 102 में दीक्षित किया गया।

2.            पापडीवाल

       वंश सोम, कुल चौहान, कुल देवी चक्रेश्वरी, ग्राम पापडे (पापडदा)। कोई सूरजमाता को भी कुल देवी मानते हैं।

       सर्वप्रथम ठाकुर सोमसिंह जी ने संवत् 104 में श्रावक व्रत ग्रहण किये तत्पश्चात् उनके परिवार का गोत्र पापडीवाल रखा गया। इस गोत्र में कितनी ही महान् विभूतियाँ हुई।

3.           भांवसा

       खण्डेलवाल जैनों में भावंसा गोत्र अपनी जनसंख्या, सामाजिक एवं साहित्यिक सेवा के लिये पर्याप्त प्रसिद्धि प्राप्त गोत्र है। भावंसा गोत्र के दूसरे नाम भौंसा, बडजात्या, गोदीका एवं मालावत हैं, जो स्थानीय कारणों से उस नाम के धारी बन गये हैं। इस गोत्र के प्रथम श्रावक भांवसिंह जी भावसे ग्राम के जागीरदार थे। सोमवंश था तथा चौहान कुल था। चक्रेश्वरी देवी इनकी कुल देवी मानी जाती है। भावंसा गोत्र होने के कारण जब इनको बोलचाल में भैंसा कहा जाने लगा तो इन्होने इसका प्रतिवाद किया और कहा कि वे राज परिवार के हैं। इसलिये उनकी जाति भी बडी है। इसके पश्चात् भांवसा गोत्र को बडजात्या भी कहा जाने लगा। संवत् 1052 में लाडनूं  में सोनपाल जी सौंठल जी बडजात्य ने पंच कल्याणक प्रतिष्ठा सम्पन्न करायी थी।

       संवत् 1444 में धर्मचन्द भांवसा चाकसू वालों की बहू चांदवाडों की बेटी थी। इसने अपने लडके का लालन पालन शहर में आकर किया। इसलिये उनको गोदीका कहा जाने लगा। इसी तरह संवत् 1658 में संघई माला जी भावंसा बड़े पराक्रमी श्रावक हुए थे इसलिये उनके वंश को मालावत कहा जाने लगा। जयपुर में मालावतों के बहुत से परिवार हैं। जयपुर में बगडा भी भांवसा गोत्रीय हैं जबकि अन्यत्र कासलीवाल, लुहाडिया को बगडा कहा जाता है।

4.           पहाड्या / पहाडिया

       गोत्र पहाडिया / वंश सोम / कुल चौहान / कुलदेवी  चक्रेश्वरी ग्राम-पहाडी मूल पुरुष-पूरणचन्दजी अपर नाम पहाडसिंह जी। प्रतिष्ठा पाठ के अनुसार संवत् 182 में इस गोत्र के श्री पोखर जी पहाड्या ने खण्डेले में पंचकल्याणक प्रतिष्ठाचार्य भट्टारक यशकीर्ति थे।

5.           पांड्या

       गोत्र-पांड्या/ वंश-सोम/ कुल चौहान/ कुलदेवी-चक्रेश्वरी। ग्राम का नाम- झीवरै।

       पहिले इस गोत्र का नाम झीथरया था लेकिन बाद में यह केवल पांडया ही रह गया। इसका मूल कारण इस गोत्र की उत्पत्ति झीथरया ग्राम में हुई थी तथा इसके प्रथम पुरुष झाझाराम जी थे, जिन्होने संवत् 104 में आचार्य जिनसेन से श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

       संवत् 1211 में मारोठ के  शासक रामसिंह चंदेल थे। उनके पश्चात् महासिंह जी गौड ने सत्ता प्राई। उनके बाद रघुनाथ सिंह जी मेरक्या ने सत्ता प्राप्त की। इनके जाबूशाह जी पांड्या कामदार हुए। उनको शाह की पदवी दी गई। तब से मारोठ के पांड्या शाह पांड्या कहलाते हैं।

6.           छाबड़ा

         इस गोत्र का प्राचीन नाम छाबड़ा या साहबाडा भी मिलता है। प्रशस्तियों में भी छाबड़ा के स्थान पर साहबड़ा गोत्र का प्रयोग किया गया है। छाबडा गोत्र का वंश सोम, कुल चौहान, देवी चक्रेश्वरी, ग्राम का नाम सहाबड़ी है। इस गोत्र के मूल पुरुष का नाम साहिमल जी है।

7.           गदिया

         इस गोत्र का नाम गदैया एवं गदहया भी प्रसिद्ध है। इसका वंश सूर्य है, कुल सोलंकी, कुल देवी आमणि है। लेकिन क प्रति में इस गोत्र का वंश चौहान एवं कुल देवी चक्रेश्वरी दी गई है। यह गोत्र प्रथम 14 गोत्रों में सम्मिलित है। बुद्धि विलास में भी सोलंकी कुल एवं आमिणी देवी गिनायी गयी है। इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर राजसिमह है जिन्होने सर्वप्रथम श्रावक के व्रत ग्रहण किये थे।

चूडीवाल एवं गिरधरवाल गोत्र भी इसी के दूसरे नाम है।

8.           चांदुवाड

         चांदुवाड गोत्र की उत्पत्ति चंदवाडू गांव से हुई। इस गोत्र का वंश चंदेल एवं कुलदेवी मातणि मानि गयी है। पं. बख्तराम ने अपने बुद्धि विलास में चांदुवाड गोत्र के दो भेद किये है। एक सोमवंशी एवं दूसरा कुरुवंशी। लेकिन मातणि कुलदेवी दोनों की एक ही है।

9.           सोनी

         सोनी गोत्रीय श्रावकों का वंश सोरई/सूर्य, कुल सोलंकी, कुलदेवी आमणि ग्राम सोहनै/सोनपुर एवं मूल पुरुष ठाकर जैतसिंह के पुत्र शिवसिंह माने जाते हैं जिन्होंने सर्व प्रथम श्रावक धर्म स्वीकार किया था।

           इस गोत्र का प्राचीन नाम सोहनी था लेकिन बाद में सोनी कहा जाने लगा।

10.     पाटनी

         गोत्र-पाटनी, वंश सोम, कुल तंवर सोलंकी/कुल देवी-आमणि। प्रथम पुरुष-पृथ्वीराजसिंह तंवर। बाहण बलध लादे तो दुखी होय गाय बेचे तो दुखी होय। ग्राम-पाटणि। पाटनी गोत्र-कोठारी, तुरक्या पाटनी, खिन्दूका, बेगस्या, सागाका, मुशरफ, इन्डिया बैंक वाले भी पाटनी हैं। वैसे पुर पट्टन से पाटनी गोत्र वाले कहलाते हैं।

           भाट के अनुसार पाटनी गोत्र के श्रावक देवी की पूजन अष्टमी से दशमी तक करते थे। देवी की सवारी सिंह की थी।

           खिन्दूका पाटनी गोत्र का ही दूसरा नाम है।

11.     भूंछ /भौंच

         इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर भोजराज थे जिन्होंने सर्वप्रथम श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

12-13. बज

         बज गोत्र का उत्पत्ति स्थान खण्डेला ही माना गया है तथा एक की कुल देवी आमणि तथा दूसरे को मोहाणी माना गयी है।

14. निगोत्या

           गोत्र निगोत्या/ वंश गौड/ जन्म ग्राम-निगोत्या/ कुल देवी नांदणि। ख प्रति में इस गोत्र का वंश छपा मिलता है। ग प्रति में चौहाण वंश मिलता है। बुद्धि विलास में निगोत्या गोत्र की कुल देवी हेमा मानी गयी है।

15. लौंहग्या

           गोत्र लौंहग्या, लोंग्या अथवा लुंग्या। ये सूर्य वंशी (सोरई) हैं। कुल देवी आमणि एवं उत्पत्ति स्थान लहुंगे माना जाता है। ख प्रति में इस गोत्र का सोलंकी वंश बतलाया गया है। बुद्धि विलास में भी इसी मत की पुष्टि की गयी है।

16. दगड़ा/ दगड्या

           गोत्र दगड्या अथवा दगडा /वंश सोरई /कुल देवी आमणि। उत्पत्ति स्थान दगडोदे।

17. रावत्या रावत

           रावत्या अथवा रावत गोत्रीय श्रावकों का वंश ठीमर सोम, ग्राम रावत्ये एवं कुल देवी औरल है। रावत गोत्र के सम्बन्ध में कोई अन्य सामग्री नहीं मिलती। ख प्रति में इस गोत्र का पामेचा वंश माना है।

18. रारा

           रारा गोत्र/ वंश ठीमर सोम/ ग्राम रीरो/ कुल देवी औरल।

           ख प्रति में बख्तराम साह ने रारा गोत्र का पामेचा वंश माना है।

           रारा गोत्र के मूल पुरुष राजसिंह जी थे।

19. नृपत्या /वरपत्या

         वंश सोम/ कुल सोरई /कुल देवी आमणि /ग्राम नरपते। मूल पुरुष हरिसिंह जी।

           ख प्रति के अनुसार इस गोत्र का वंश यादव, कुल देवी रोहिणी है। इस गोत्र में सर्वप्रथम संवत् 110 में हरिसिंहजी ने श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

20. राउंका रांवका

         गोत्र रांवका/ कुल ठीमर सोम /कुल देवी औरलि।

           उत्पत्ति नगर राउंको /रीरो।

21. मोदी

         वंश सोम, कुल ठीमर सोम, ग्राम का नामा मोघा, कुल देवी अमरलि।

22. मोठ्या

           वंश ठीमर ग्राम मोठे देवी औरलि।

23. बाकलीवाल

           गोत्र बाकलीवाल, वंश मोहिल, कुल देवी जीणि, उत्पत्ति नगर बाकली अथवा बाकुले।

24. कासलीवाल

           कासलीवाल गोत्र का वंश सोम है। कुल मोहिल है। कुल देवी जिणि एवं उत्पत्ति नगर कासली है जो खंडेला राज्य का ग्राम था। कहीं-कहीं बगडा, संबलावत उस गोत्र के उपगोत्र हैं। इस गोत्र के प्रथम पुरुष जयसराज मोहिल थे जिन्हें कासली ग्राम के शासक एवं जैन धर्म में दीक्षित होने का गौरव प्राप्त है।

25. अजमेरा

         गोत्र-अजमेरा/उत्पत्ति स्थान अजमेरा/वंश-गौड/कुलदेवी-नांदाणि/मूलपुरुष उग्रवंशी राजा अक्षयमल।

26. पाटोदी                              

         गोत्र-पाटोदी/वंश तुवंर/कुल-गहलोत/कुलदेवी-पदमावती/प्रथम पुरुष-ठाकुर पदमसिंह।

27. पापल्या

         गोत्र-पापल्या/वंश-सोरई/कुलदेवी-आमणि/ग्राम-पापले मूल पुरुष ठाकुर पृथ्वीराज /जनश्रुति के अनुसार इन्ही के वंशधरों ने बैराठ में जिन मन्दिर का निर्माण करवायक था।

28. सोगानी

         गोत्र-सोगानी/वंश-सूर्यवंश-कोटेचा/कुलदेवी-कान्हड/ग्राम-सौगाणी/ मूल पुरुष ठाकुर शिवाराज सिंह।

29. बोहरा

         गोत्र बोहरा, वंश सोढा, कुल देवी सैतलि, ग्राम बोहरे।

30. लुहाडिया

         गोत्र लुहाडिया, कुरु वंश, कुल मेरठी, कुल देवी लोसिल माता।

           इस गोत्र के बगडा एवं संघई बैंक वाले भी लुहाडिया होते हैं। इस गोत्र के प्रथम महापुरुष ठाकुर लालसिंह जी थे जिन्होंने खण्डेला में संवत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किया था।

31. वैद गोत्र

         वैद गोत्र, वंश सोम, कुल यादव, कुल देवी आमणि, ग्राम पावडे।

           इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर बिदरसिंह जी थे। जिन्होने संवत् 110 वैशाख सुदी 13 को श्रावक व्रत ग्रहण किया था।

32. झांझरी

         झांझरी गोत्र, वंश-कुरु वंश, कुल-कूरम (कछवाहा), कुल देवी जमवाय, ग्राम झांझरे अथवा झींझर।

           इस गोत्र के प्रथम जैतसिंह थे। जिन्होंने संवत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

33. गंगवाल

         गोत्र गंगवाल, वश-कुरु वंश, कुलृकूरम(कछवाहा), कुल देवी जमवाय, ग्राम गंगवानी।

           अपर नाम-कांटीवाल, मूथा, गढवोल गंगवाल।

           मूल पुरुष—गोरधनसिंह गंगवानी इस गोत्र के प्रथम महापुरुष थे। इन्होने संवत् 110 के भादवा सुदी 13 को श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

34. सेठी

         गोत्र सेठी, वंश-कुरु वंश, कुल-मोरठ सोम, उत्पत्ति स्थान-सेठोलाव।

           सेठी गोत्र के मूल पुरुष सौभाग्यसिंह जी थे जो हरियावसिंह जी के पुत्र थे। जिन्होंने श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

35. राजहंस्या

         इस गोत्र का नाम राजहंस भी मिलता है। इसका सोम वंश है। कुल सोढा है। कुल देवी सकराय माता है। उत्पत्ति स्थान राजहंस ग्राम है।

36. अहंकारया

         अहंकारया गोत्र का वंश सोम है। कुल सोढा है। कुल देवी सकराय है। दूसरे इतिहास लेखकों ने इस गोत्र की कुल देवी सरस्वती  माना है।

37. काला

         गोत्र काला, वंश-कुरु वंश, कुल-ठीमर, कुल-देवी लाहाणी, ग्राम कोलाव।

           इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर कल्याणसिंह जी थे। इन्होंने जिनसेनचार्य के पास श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

38. गोधा

         गोत्र-गोधा, वंश-सोम, कुल-गौड, कुल देवी-नादणि, ग्राम-गोधाणी।

           इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर गिरनेर थे। जिन्होंने सर्वप्रथम श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

           सम्वत् 1204 से गोधा ठोल्या एक ही गोत्र के दो नाम पड़ गये।

39. टोंग्या

         गोत्र-टोंग्या, वंश-सोम, कुल-पवार, कुल देवी-चांवड (जिनी), ग्राम-टोंगों। मूल पुरुष विरदसिंह। इन्होने सम्वत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किये।

40. अनोपडा

         गोत्र-अनोपडा, वंश-इक्ष्वाकु, कुल-चन्देला, कुल देवी-मातणि, ग्राम-अनोपडे, मूल पुरुष कनकसिंह जी। इस गोत्र का दूसरा नाम नोपडा भी मिलता है।

41. विनायक्या

         इस गोत्र के विनायक्या एवं बिन्दाय्या दोनें ही नाम मिलते हैं। इस गोत्र का वंश सोम वंश है। कुल गहलोत एवं कुल देवी चौथ है। ग्राम विनायका/ विनायके है।

42. चौधरी

         84 गोत्रों में चौधरी भी एक गोत्र है। वैसे चौधरी बैंक भी है। चौधरी गोत्र का कुल-तुवंर, वंश-कुरु, कुल देवी-पदमावती। आदि पुरुष ठाकुर हरचन्द जी थे।

43. पोटल्या

         गोत्र पोटल्या, वंश सोम, कुल गहलोत, कुल देवी चौथी, ग्राम चन्देल। मूल पुरुष रामसिंह थे। इन्होने संवत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

44. कटारिया / कटारया

         वंश-इक्ष्वाकु, कुल-कूर्म(कछवाहा), कुल देवी-जमवाय, ग्राम-कटारा। मूल पुरुष ठाकुर कल्याणसिंह जी है। न्होनें श्रावक व्रत ग्रहण किये ते।

45. निगद्या

         गोत्र निगद्या अथवा निगेदिया। वंश-सोरई। कुलदेवी नांदणि। उत्पत्ति स्थान नगद्या। ख प्रति में इस गोत्र का वंश गौड माना गया है।

46-47. विलाला

         विलाला गोत्र दो प्रकार का है-

1.   सोम वंश, किल ठीमर, देवी-ओरलि, ग्राम-बडी विलाली।

2.   कुरु वंशी, कुल देवी-सोनिल, ग्राम-विलाली छोटी, मूल पुरुष ठाकुर वीरसिंह।

48. बम्ब

           गोत्र-बम्ब, इस गोत्र का सोम वंश, सोढा कुल एवं कुल देवी-सकराय है।

49.  हलद्या / हलदेनिया

         इस गोत्र का प्रचलित नाम हलदेनिया है। ये सोमवंशी हैं। कुल मोहिल एवं  कुल देवी जीण है।

50. क्षेत्रपाल्या

         गोत्र-श्रेत्रपाल्या अथवा श्रेत्रपालिया, सोम वंश, दुजि कुल एवं कुल देवी हेमा है। इस गोत्र के भी बहुल कम परिवार मिलते हैं।

51. दुकड्या                                                                                

         यह गोत्र भी 84 गोत्रों में है। इस गोत्र की कुल देवी हेमा है। वंश दुजिल एवं ग्राम का नाम द्कडे है।

52. दोशी

         दोशी गोत्र का वंश राठौड़ है। कुल देवी जमवाय तथा उत्पत्ति स्थान सेसेणि नगर माना जाता है। इस गोत्र के नाथूराम दोशी हुए।

53. भसावड़या

         भसावड्या कुरु वंशी गोत्र है। इसकी कुल देवी सोनिल है तथा मूल नगर भसावड है।

54. भांगड्या

         भांगड्या गोत्र भी प्रचलित गौत्र नही हैं। इसका वंश ठीमर तथा कुल देवी ओरल है। भांगडे नगर इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है।

55. भूवाल

         भूवाल गोत्र का कछवाहा वंश है। जमवाय इसकी कुल देवी है तथा भूवाल इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है।

56. सरवाड्या

         गौड वंश का सरावाड्या गोत्र है। इसकी कुल देवी नादणि है तथा उत्पत्ति स्थान सरवाडे है।

57. गोतवंशी

         यह गोत्र भी 84 गोत्रों में से एक गोत्र है। इस गोत्र का दुजिल वंश है। हेमां कुल देवी है तथा गोतडी नामक ग्राम इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है। लेकिन बख्तराम साह ने इस प्रकार के किसी  गोत्र का उल्लेख नहीं किया है।

58. चोवारया

         प्रस्तुत गोत्र को 84 गोत्रों में गिनाया गया है। इस गोत्र का चौहान वंश, चक्रेश्वरी देवी एवं चौबारे उत्पत्ति स्थान है। बख्तराम साह ने इस गोत्र को 84 गोत्रों में नहीं गिनाया है।

59. गींदोड्या

         इस गोत्र की उत्पत्ति स्थान गिन्दोडी है। इसकी कुल देवी श्रीदेवी है। इसका सोढा वंश माना जाता है। गींदोड्या गोत्र के परिवार राजस्थान अथवा अन्य किसी प्रदेश में रहते हों इसका जानकारी नही मिलती।

60. छाहड

           इस गोत्र का नांदेचा कुल है। कुरु वंश है। देवी सोनिल तथा उत्पत्ति ग्राम छाहेड माना जाता है।

61. कोकराज

         इस गोत्र का नांदेचा कुल है। कुरु वंश का यह गोत्र है तथा इस गोत्र की देवी सोनिल है। इसका उत्पत्ति स्थान कोकरजे है। इस गोक्ष के परिवार भी सम्भवतः नहीं है। श्री राजमल बडजात्या ने इस गोत्र का नाम कोकणराज्या लिखा है।

62. जुगराज्या

         उत्पत्ति नगर जगराजै को छोड़ कर कुल वंश एवं कुलदेवी वे ही हैं जो कोकराज गोत्र की मानी जाती है।

63. मूलराज

         इस गोत्र के कुल का नाम मोहिल है। कुरु वंश है। सोनिल कुल देवी है तथा उत्पत्ति स्थान मूलराज्ये है। बख्तराम साह भी उक्त मत के समर्थक है।

64. लटीवाल

         इस गोत्र के कुल का नाम मोहिल है। कुल देवी का नाम श्रीदेवी एवं सोढा इस गोत्र का वंश है। लटवे इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है।

65. बोरखण्डया

         इस गोत्र की कुल देवी हेमा मानी गयी है। इसका वंश दुजिल है। इसका गहलोत कुल माना है तथा उत्पत्ति स्थान बोरखण्डे है।

66. कुलभण्या

         इस गोत्र की कुल देवी हेमा है। इसका दुजिल वंश तथा कुलभण्ये उत्पत्ति स्थान का नाम है। इस गोत्र के परिवार भी प्रायः नही मिलते है।

67. मोलसरया

         यह सोढा वंशीय गोत्र है। कुल देवी का नाम सकराय है तथा उत्पति स्थान मलसरे है। बख्तराम साह ने इस गोत्र का चन्देल वंश तथा कुल देवी का नाम मातणि लिखा है।

68. लोहट

         इस गोत्र का नाम लावट भी मिलता है। बख्तराम साह ने भी लावट नाम लिखा है। इस गोत्र का मेरिठ वंश का नाम है तथा कुल देवी लोसिल माता है। उत्पत्ति स्थान लोहटे लिखा है.

69. नरपोल्या

         नरपोल्या गोत्र का वंश गौड है। कुलदेवी नांदणि है तथा उत्पत्ति स्थान नरपोले है। बख्तराम साह ने इस गोत्र के कुल का नाम दहरया लिखा है।

           नरपोल्या निरगंधा गोत, कुल है दहरया और नहि होत।

70. भडसाली

         इस गोत्र की कुलदेवी का नाम आमणि है। इसका सोम वंश है। सोलंकी कुल का नाम है। उत्पत्ति नगर का नाम भडसाले है। इस गोत्र के सम्बन्ध में इतिहास लेखक एक मत नही है। घ प्रति में इस गोत्र को भडसाली बज लिखा है तथा इसको बज गोत्र से जोडा है लेकिन बख्तराम साह ने इस गोत्र की यादव कुल, रोहिणी कुलदेवी माना है।

71. वैनाडा

         गोत्र-वैनाडा। वंश-ठीमर। कुलदेवी ओरल। उत्पत्ति स्थान-बनावट।

           इस गोत्र का उल्लेख सभी इतिहासकारों ने  नहो किया है। लेकिन दौसा के बीसपंथी मन्दिर में एक नंदीश्वर की धातु की मूर्ति है जो संवत् 1660 फागुन बुदी 5 गुरुवार के दिन माखूण में वैनाडा गोलीय सा भोजा उसके पुत्र ऊदा, तुपुत्र हेमा, नागा चाला, सांवल राम, दामोदर माता ठाकुरी दादी रुकमा ने उसकी प्रतिष्ठा की थी।

           वैनाडा गोत्रीय परिवार जयपुर, आगरा, लालसेट आदि नगरों में मिलते हैं।

72. कडवागर

         इस गोत्र का उत्पत्ति नगर कडवागरी है। इसका वंश सोम है कुल गौड है तथा कुलदेवी का नाम नांदणी है। बख्तराम साह ने कुलदेवी का नाम नांदिल लिखा है तथा कुल का नाम पडिहार माना है।

73. सृपत्या

         इस गोत्र का नाम सरपत्या एवं सुरपत्या भी मिलता है। इस गोत्र का मोहिल कुल है तथा कुल देवी जीणि माता है। इसका उत्पत्ति स्थान सुरपति नगर है। इस गोत्र के परिवारों के बारे में कोई जानकारी नही मिलती है।

74. दरडोद्या

         गोत्र दरडोद्या, वंश सोम, कुल चौहान, कुल देवी चक्रेश्वरी ग्राम-दरडे, मूल पुरुष राजा दमतारिजी।

75. पिंगुल्या

         गोत्र पिंगुल्या, वंश-सोम, कुल चौहान, कुलदेवी-चक्रेश्वरी, ग्राम का नाम-पिंगुल।

76. भुलाण्यां

         गोत्र-भुलाण्यां, भुलणा, वंश-सोम, कुल चौहान, कुलदेवी-चक्रेश्वरी, ग्राम का नाम-भूलणा।

           इस गोत्र के प्रथम पुरुष भूघरमल जी थे। जो भूलणा ग्राम के ठाकुर थे।

77. वनमाली

         इसका दूसरा नाम वनमाल्या भी मिलता है। क, ग, एवं घ प्रति में इस गोत्र के वंश का नाम चौहान एवं कुल देवी चक्रेश्वरी दिया हुआ है। इस गोत्र का उदगम बनमाले ग्राम से हुआ था। ख प्रति से इस वंश का गोत्र यादव एवं कुल देवी रोहिणी लिखा है। पं. बख्तराम साह ने भी वनमाली गोत्र का यादव कुल एवं रोहिणी देवी लिखा है।

78. पीतल्या

         गोत्र-पीतल्या, वंश-सोम, कुल चौहाण, कुल देवी चक्रेश्वरी ग्राम का नाम-पीतले। पं. बख्तराम ने बुद्ध विलास में इसी बात का समर्थन किया है।

79. अरडक

         अरडक गोत्र की गिनती प्रारम्भ के 14 गोत्रों में की गयी है। इसका वंश सोम, कुल चौहान, कुलदेवी चक्रेश्वरी है। ख प्रति में इस गोत्र के इतिहास में इस गोत्र के मूल पुरुष का नाम श्री अजबसिंह जी गिनाया गया है। साथ में यह भी लिखा है कि (आठे चौदासि चाकी फरेजे नहीं। चाकी को अपमान करे नही।)

80. चिरकन्या / चिरकनां

         यह गोत्र आचार्य जिनसेन द्वारा निर्धारित 14 गोत्रों में से अन्तिम गोत्र माना गया है। इसके कुल वंश, देवी वही है जो इस समूह के अन्य गोत्रों की है। लेकिन बुद्धिविलास में चिरकन्या गोत्र की गिनती इक्ष्वाकु वंश में की गयी है और चक्रेश्वरी के स्थान पर नांदिल देवी को इस गोत्र की देवी बतलाया है।

81. जलवाण्या

         वंश-सोम/कुल-कुछवाहा/नगर-जलवाणे/जलभणे कुलदेवी-जमवाय। इस गोत्र का दूसरा नाम जलभाण्या भी मिलता है। इस गोत्र के परिवार भी संभवत/ कहीं नहीं मिलते हैं।

82. सांभरया

         वंश-सोम/कुल-चौहान/नगर-सांभरि/देवी-चक्रेशवरी/ जोबनेर के  मंदिर वाली पाण्डुलिपि में कुलदेवी का नाम सांभराय लिखा है। यदि प्रस्तुत सांभर ही इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है तो इससे इतिहास के कितने ही अध खुले पृष्ट खुल जावेंगे तथा खण्डेला की सीमा सांभर तक आ जावेगी।

83. राजभद्र

         गोत्र-राजभद्र/ वंश-सोम/कुल-चौहाण/ नगर-स्थान राजभद्र/ कुलदेवी-चक्रेश्नरी/ प्रथम पुरुष-रामसिंह।

84. साखूया

         गोत्र-साखूण्या। वेश-सोढा। उत्पत्ति स्थान साखूणौ अथवा साखूणि। कुलदेवी सकराय। ख प्रति के अनुसार इस गोत्र केवेश का नाम सांखुला है। भाट के अनुसार इस गोत्र की कुल देवी आमना है। इस गोत्र के प्रथम पुरुष ठाकुर श्याम सिंह जी माने जाते है जिन्होनें संवत् 990 में श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

84 गोत्रों के अतिरिक्त गोत्र

         उक्त 84 गोत्रों के अतिरिक्त, खण्डेलवाल जैन समाज के ही निम्न गोत्रों का उल्लेख ग्रंथ प्रशस्तियों, मूर्ति लेखों में और मिलता है-

        साधु   साधु गोत्र, ठाकुल्यावाल, मेलूका, नायक, खाटड्या, सरस्वती, कुककुरा, वोठवोड, कोटरावकल, भतावड्या, बीजुण, कांधावाल, रिन्धिया एवं सांगरियादिगम्बर जैन समाज का गोत्रानुसार इतिहास एवं परिचय

*1.      साह (शाह) गोत्र*

      खण्डेलवाल दिगम्बर जैन समाज के 84 गोत्रों में साह गोत्र शाही गोत्र है। यह खण्डेला के महाराज खण्डेलगिरि का गोत्र है जो उन्हें जैन धर्म में दीक्षित करने तथा अहिंसा धर्म के परिपालन की प्रतिज्ञा लेने के पश्चात् दिया गया था। उन्हें खण्डेलवाल जैन जाति का प्रथम महापुरुष  होने तथा साह गोत्रीय कहलाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। वे चौहान राजपूत थे। सोम उनका वंश था। खण्डेला उनका नगर एवं चक्रेश्वरी देवी उनकी कुल देवी थी। उनको विक्रम सम्वत् 102 में दीक्षित किया गया।

2.            पापडीवाल

       वंश सोम, कुल चौहान, कुल देवी चक्रेश्वरी, ग्राम पापडे (पापडदा)। कोई सूरजमाता को भी कुल देवी मानते हैं।

       सर्वप्रथम ठाकुर सोमसिंह जी ने संवत् 104 में श्रावक व्रत ग्रहण किये तत्पश्चात् उनके परिवार का गोत्र पापडीवाल रखा गया। इस गोत्र में कितनी ही महान् विभूतियाँ हुई।

3.           भांवसा (बडजात्या)

       खण्डेलवाल जैनों में भावंसा गोत्र अपनी जनसंख्या, सामाजिक एवं साहित्यिक सेवा के लिये पर्याप्त प्रसिद्धि प्राप्त गोत्र है। भावंसा गोत्र के दूसरे नाम भौंसा, बडजात्या, गोदीका एवं मालावत हैं, जो स्थानीय कारणों से उस नाम के धारी बन गये हैं। इस गोत्र के प्रथम श्रावक भांवसिंह जी भावसे ग्राम के जागीरदार थे। सोमवंश था तथा चौहान कुल था। चक्रेश्वरी देवी इनकी कुल देवी मानी जाती है। भावंसा गोत्र होने के कारण जब इनको बोलचाल में भैंसा कहा जाने लगा तो इन्होने इसका प्रतिवाद किया और कहा कि वे राज परिवार के हैं। इसलिये उनकी जाति भी बडी है। इसके पश्चात् भांवसा गोत्र को बडजात्या भी कहा जाने लगा। संवत् 1052 में लाडनूं  में सोनपाल जी सौंठल जी बडजात्य ने पंच कल्याणक प्रतिष्ठा सम्पन्न करायी थी।

       संवत् 1444 में धर्मचन्द भांवसा चाकसू वालों की बहू चांदवाडों की बेटी थी। इसने अपने लडके का लालन पालन शहर में आकर किया। इसलिये उनको गोदीका कहा जाने लगा। इसी तरह संवत् 1658 में संघई माला जी भावंसा बड़े पराक्रमी श्रावक हुए थे इसलिये उनके वंश को मालावत कहा जाने लगा। जयपुर में मालावतों के बहुत से परिवार हैं। जयपुर में बगडा भी भांवसा गोत्रीय हैं जबकि अन्यत्र कासलीवाल, लुहाडिया को बगडा कहा जाता है।

4.           पहाड्या / पहाडिया

       गोत्र पहाडिया / वंश सोम / कुल चौहान / कुलदेवी  चक्रेश्वरी ग्राम-पहाडी मूल पुरुष-पूरणचन्दजी अपर नाम पहाडसिंह जी। प्रतिष्ठा पाठ के अनुसार संवत् 182 में इस गोत्र के श्री पोखर जी पहाड्या ने खण्डेले में पंचकल्याणक प्रतिष्ठाचार्य भट्टारक यशकीर्ति थे।

5.           पांड्या

       गोत्र-पांड्या/ वंश-सोम/ कुल चौहान/ कुलदेवी-चक्रेश्वरी। ग्राम का नाम- झीवरै।

       पहिले इस गोत्र का नाम झीथरया था लेकिन बाद में यह केवल पांडया ही रह गया। इसका मूल कारण इस गोत्र की उत्पत्ति झीथरया ग्राम में हुई थी तथा इसके प्रथम पुरुष झाझाराम जी थे, जिन्होने संवत् 104 में आचार्य जिनसेन से श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

       संवत् 1211 में मारोठ के  शासक रामसिंह चंदेल थे। उनके पश्चात् महासिंह जी गौड ने सत्ता प्राई। उनके बाद रघुनाथ सिंह जी मेरक्या ने सत्ता प्राप्त की। इनके जाबूशाह जी पांड्या कामदार हुए। उनको शाह की पदवी दी गई। तब से मारोठ के पांड्या शाह पांड्या कहलाते हैं।

6.           छाबड़ा

         इस गोत्र का प्राचीन नाम छाबड़ा या साहबाडा भी मिलता है। प्रशस्तियों में भी छाबड़ा के स्थान पर साहबड़ा गोत्र का प्रयोग किया गया है। छाबडा गोत्र का वंश सोम, कुल चौहान, देवी चक्रेश्वरी, ग्राम का नाम सहाबड़ी है। इस गोत्र के मूल पुरुष का नाम साहिमल जी है।

7.           गदिया

         इस गोत्र का नाम गदैया एवं गदहया भी प्रसिद्ध है। इसका वंश सूर्य है, कुल सोलंकी, कुल देवी आमणि है। लेकिन क प्रति में इस गोत्र का वंश चौहान एवं कुल देवी चक्रेश्वरी दी गई है। यह गोत्र प्रथम 14 गोत्रों में सम्मिलित है। बुद्धि विलास में भी सोलंकी कुल एवं आमिणी देवी गिनायी गयी है। इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर राजसिमह है जिन्होने सर्वप्रथम श्रावक के व्रत ग्रहण किये थे।

चूडीवाल एवं गिरधरवाल गोत्र भी इसी के दूसरे नाम है।

8.           चांदुवाड (चाँदवाढ)

         चांदुवाड गोत्र की उत्पत्ति चंदवाडू गांव से हुई। इस गोत्र का वंश चंदेल एवं कुलदेवी मातणि मानि गयी है। पं. बख्तराम ने अपने बुद्धि विलास में चांदुवाड गोत्र के दो भेद किये है। एक सोमवंशी एवं दूसरा कुरुवंशी। लेकिन मातणि कुलदेवी दोनों की एक ही है।

9.           सोनी

         सोनी गोत्रीय श्रावकों का वंश सोरई/सूर्य, कुल सोलंकी, कुलदेवी आमणि ग्राम सोहनै/सोनपुर एवं मूल पुरुष ठाकर जैतसिंह के पुत्र शिवसिंह माने जाते हैं जिन्होंने सर्व प्रथम श्रावक धर्म स्वीकार किया था।

           इस गोत्र का प्राचीन नाम सोहनी था लेकिन बाद में सोनी कहा जाने लगा।

10.     पाटनी

         गोत्र-पाटनी, वंश सोम, कुल तंवर सोलंकी/कुल देवी-आमणि। प्रथम पुरुष-पृथ्वीराजसिंह तंवर। बाहण बलध लादे तो दुखी होय गाय बेचे तो दुखी होय। ग्राम-पाटणि। पाटनी गोत्र-कोठारी, तुरक्या पाटनी, खिन्दूका, बेगस्या, सागाका, मुशरफ, इन्डिया बैंक वाले भी पाटनी हैं। वैसे पुर पट्टन से पाटनी गोत्र वाले कहलाते हैं।

           भाट के अनुसार पाटनी गोत्र के श्रावक देवी की पूजन अष्टमी से दशमी तक करते थे। देवी की सवारी सिंह की थी।

           खिन्दूका पाटनी गोत्र का ही दूसरा नाम है।

11.     भूंछ /भौंच

         इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर भोजराज थे जिन्होंने सर्वप्रथम श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

12-13. बज

         बज गोत्र का उत्पत्ति स्थान खण्डेला ही माना गया है तथा एक की कुल देवी आमणि तथा दूसरे को मोहाणी माना गयी है।

14. निगोत्या

           गोत्र निगोत्या/ वंश गौड/ जन्म ग्राम-निगोत्या/ कुल देवी नांदणि। ख प्रति में इस गोत्र का वंश छपा मिलता है। ग प्रति में चौहाण वंश मिलता है। बुद्धि विलास में निगोत्या गोत्र की कुल देवी हेमा मानी गयी है।

15. लौंहग्या

           गोत्र लौंहग्या, लोंग्या अथवा लुंग्या। ये सूर्य वंशी (सोरई) हैं। कुल देवी आमणि एवं उत्पत्ति स्थान लहुंगे माना जाता है। ख प्रति में इस गोत्र का सोलंकी वंश बतलाया गया है। बुद्धि विलास में भी इसी मत की पुष्टि की गयी है।

16. दगड़ा/ दगड्या

           गोत्र दगड्या अथवा दगडा /वंश सोरई /कुल देवी आमणि। उत्पत्ति स्थान दगडोदे।

17. रावत्या रावत

           रावत्या अथवा रावत गोत्रीय श्रावकों का वंश ठीमर सोम, ग्राम रावत्ये एवं कुल देवी औरल है। रावत गोत्र के सम्बन्ध में कोई अन्य सामग्री नहीं मिलती। ख प्रति में इस गोत्र का पामेचा वंश माना है।

18. रारा

           रारा गोत्र/ वंश ठीमर सोम/ ग्राम रीरो/ कुल देवी औरल।

           ख प्रति में बख्तराम साह ने रारा गोत्र का पामेचा वंश माना है।

           रारा गोत्र के मूल पुरुष राजसिंह जी थे।

19. नृपत्या /वरपत्या

         वंश सोम/ कुल सोरई /कुल देवी आमणि /ग्राम नरपते। मूल पुरुष हरिसिंह जी।

           ख प्रति के अनुसार इस गोत्र का वंश यादव, कुल देवी रोहिणी है। इस गोत्र में सर्वप्रथम संवत् 110 में हरिसिंहजी ने श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

20. राउंका रांवका

         गोत्र रांवका/ कुल ठीमर सोम /कुल देवी औरलि।

           उत्पत्ति नगर राउंको /रीरो।

21. मोदी

         वंश सोम, कुल ठीमर सोम, ग्राम का नामा मोघा, कुल देवी अमरलि।

22. मोठ्या

           वंश ठीमर ग्राम मोठे देवी औरलि।

23. बाकलीवाल

           गोत्र बाकलीवाल, वंश मोहिल, कुल देवी जीणि, उत्पत्ति नगर बाकली अथवा बाकुले।

24. कासलीवाल

           कासलीवाल गोत्र का वंश सोम है। कुल मोहिल है। कुल देवी जिणि एवं उत्पत्ति नगर कासली है जो खंडेला राज्य का ग्राम था। कहीं-कहीं बगडा, संबलावत उस गोत्र के उपगोत्र हैं। इस गोत्र के प्रथम पुरुष जयसराज मोहिल थे जिन्हें कासली ग्राम के शासक एवं जैन धर्म में दीक्षित होने का गौरव प्राप्त है।

25. अजमेरा

         गोत्र-अजमेरा/उत्पत्ति स्थान अजमेरा/वंश-गौड/कुलदेवी-नांदाणि/मूलपुरुष उग्रवंशी राजा अक्षयमल।

26. पाटोदी                              

         गोत्र-पाटोदी/वंश तुवंर/कुल-गहलोत/कुलदेवी-पदमावती/प्रथम पुरुष-ठाकुर पदमसिंह।

27. पापल्या

         गोत्र-पापल्या/वंश-सोरई/कुलदेवी-आमणि/ग्राम-पापले मूल पुरुष ठाकुर पृथ्वीराज /जनश्रुति के अनुसार इन्ही के वंशधरों ने बैराठ में जिन मन्दिर का निर्माण करवायक था।

28. सोगानी

         गोत्र-सोगानी/वंश-सूर्यवंश-कोटेचा/कुलदेवी-कान्हड/ग्राम-सौगाणी/ मूल पुरुष ठाकुर शिवाराज सिंह।

29. बोहरा

         गोत्र बोहरा, वंश सोढा, कुल देवी सैतलि, ग्राम बोहरे।

30. लुहाडिया

         गोत्र लुहाडिया, कुरु वंश, कुल मेरठी, कुल देवी लोसिल माता।

           इस गोत्र के बगडा एवं संघई बैंक वाले भी लुहाडिया होते हैं। इस गोत्र के प्रथम महापुरुष ठाकुर लालसिंह जी थे जिन्होंने खण्डेला में संवत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किया था।

31. वैद गोत्र

         वैद गोत्र, वंश सोम, कुल यादव, कुल देवी आमणि, ग्राम पावडे।

           इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर बिदरसिंह जी थे। जिन्होने संवत् 110 वैशाख सुदी 13 को श्रावक व्रत ग्रहण किया था।

32. झांझरी

         झांझरी गोत्र, वंश-कुरु वंश, कुल-कूरम (कछवाहा), कुल देवी जमवाय, ग्राम झांझरे अथवा झींझर।

           इस गोत्र के प्रथम जैतसिंह थे। जिन्होंने संवत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

33. गंगवाल

         गोत्र गंगवाल, वश-कुरु वंश, कुलृकूरम(कछवाहा), कुल देवी जमवाय, ग्राम गंगवानी।

           अपर नाम-कांटीवाल, मूथा, गढवोल गंगवाल।

           मूल पुरुष—गोरधनसिंह गंगवानी इस गोत्र के प्रथम महापुरुष थे। इन्होने संवत् 110 के भादवा सुदी 13 को श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

34. सेठी

         गोत्र सेठी, वंश-कुरु वंश, कुल-मोरठ सोम, उत्पत्ति स्थान-सेठोलाव।

           सेठी गोत्र के मूल पुरुष सौभाग्यसिंह जी थे जो हरियावसिंह जी के पुत्र थे। जिन्होंने श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

35. राजहंस्या

         इस गोत्र का नाम राजहंस भी मिलता है। इसका सोम वंश है। कुल सोढा है। कुल देवी सकराय माता है। उत्पत्ति स्थान राजहंस ग्राम है।

36. अहंकारया

         अहंकारया गोत्र का वंश सोम है। कुल सोढा है। कुल देवी सकराय है। दूसरे इतिहास लेखकों ने इस गोत्र की कुल देवी सरस्वती  माना है।

37. काला

         गोत्र काला, वंश-कुरु वंश, कुल-ठीमर, कुल-देवी लाहाणी, ग्राम कोलाव।

           इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर कल्याणसिंह जी थे। इन्होंने जिनसेनचार्य के पास श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

38. गोधा

         गोत्र-गोधा, वंश-सोम, कुल-गौड, कुल देवी-नादणि, ग्राम-गोधाणी।

           इस गोत्र के मूल पुरुष ठाकुर गिरनेर थे। जिन्होंने सर्वप्रथम श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

           सम्वत् 1204 से गोधा ठोल्या एक ही गोत्र के दो नाम पड़ गये।

39. टोंग्या

         गोत्र-टोंग्या, वंश-सोम, कुल-पवार, कुल देवी-चांवड (जिनी), ग्राम-टोंगों। मूल पुरुष विरदसिंह। इन्होने सम्वत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किये।

40. अनोपडा

         गोत्र-अनोपडा, वंश-इक्ष्वाकु, कुल-चन्देला, कुल देवी-मातणि, ग्राम-अनोपडे, मूल पुरुष कनकसिंह जी। इस गोत्र का दूसरा नाम नोपडा भी मिलता है।

41. विनायक्या

         इस गोत्र के विनायक्या एवं बिन्दाय्या दोनें ही नाम मिलते हैं। इस गोत्र का वंश सोम वंश है। कुल गहलोत एवं कुल देवी चौथ है। ग्राम विनायका/ विनायके है।

42. चौधरी

         84 गोत्रों में चौधरी भी एक गोत्र है। वैसे चौधरी बैंक भी है। चौधरी गोत्र का कुल-तुवंर, वंश-कुरु, कुल देवी-पदमावती। आदि पुरुष ठाकुर हरचन्द जी थे।

43. पोटल्या

         गोत्र पोटल्या, वंश सोम, कुल गहलोत, कुल देवी चौथी, ग्राम चन्देल। मूल पुरुष रामसिंह थे। इन्होने संवत् 110 में श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

44. कटारिया / कटारया

         वंश-इक्ष्वाकु, कुल-कूर्म(कछवाहा), कुल देवी-जमवाय, ग्राम-कटारा। मूल पुरुष ठाकुर कल्याणसिंह जी है। न्होनें श्रावक व्रत ग्रहण किये ते।

45. निगद्या

         गोत्र निगद्या अथवा निगेदिया। वंश-सोरई। कुलदेवी नांदणि। उत्पत्ति स्थान नगद्या। ख प्रति में इस गोत्र का वंश गौड माना गया है।

46-47. विलाला

         विलाला गोत्र दो प्रकार का है-

1.   सोम वंश, किल ठीमर, देवी-ओरलि, ग्राम-बडी विलाली।

2.   कुरु वंशी, कुल देवी-सोनिल, ग्राम-विलाली छोटी, मूल पुरुष ठाकुर वीरसिंह।

48. बम्ब

           गोत्र-बम्ब, इस गोत्र का सोम वंश, सोढा कुल एवं कुल देवी-सकराय है।

49.  हलद्या / हलदेनिया

         इस गोत्र का प्रचलित नाम हलदेनिया है। ये सोमवंशी हैं। कुल मोहिल एवं  कुल देवी जीण है।

50. क्षेत्रपाल्या

         गोत्र-श्रेत्रपाल्या अथवा श्रेत्रपालिया, सोम वंश, दुजि कुल एवं कुल देवी हेमा है। इस गोत्र के भी बहुल कम परिवार मिलते हैं।

51. दुकड्या                                                                                

         यह गोत्र भी 84 गोत्रों में है। इस गोत्र की कुल देवी हेमा है। वंश दुजिल एवं ग्राम का नाम द्कडे है।

52. दोशी

         दोशी गोत्र का वंश राठौड़ है। कुल देवी जमवाय तथा उत्पत्ति स्थान सेसेणि नगर माना जाता है। इस गोत्र के नाथूराम दोशी हुए।

53. भसावड़या

         भसावड्या कुरु वंशी गोत्र है। इसकी कुल देवी सोनिल है तथा मूल नगर भसावड है।

54. भांगड्या

         भांगड्या गोत्र भी प्रचलित गौत्र नही हैं। इसका वंश ठीमर तथा कुल देवी ओरल है। भांगडे नगर इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है।

55. भूवाल

         भूवाल गोत्र का कछवाहा वंश है। जमवाय इसकी कुल देवी है तथा भूवाल इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है।

56. सरवाड्या

         गौड वंश का सरावाड्या गोत्र है। इसकी कुल देवी नादणि है तथा उत्पत्ति स्थान सरवाडे है।

57. गोतवंशी

         यह गोत्र भी 84 गोत्रों में से एक गोत्र है। इस गोत्र का दुजिल वंश है। हेमां कुल देवी है तथा गोतडी नामक ग्राम इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है। लेकिन बख्तराम साह ने इस प्रकार के किसी  गोत्र का उल्लेख नहीं किया है।

58. चोवारया

         प्रस्तुत गोत्र को 84 गोत्रों में गिनाया गया है। इस गोत्र का चौहान वंश, चक्रेश्वरी देवी एवं चौबारे उत्पत्ति स्थान है। बख्तराम साह ने इस गोत्र को 84 गोत्रों में नहीं गिनाया है।

59. गींदोड्या

         इस गोत्र की उत्पत्ति स्थान गिन्दोडी है। इसकी कुल देवी श्रीदेवी है। इसका सोढा वंश माना जाता है। गींदोड्या गोत्र के परिवार राजस्थान अथवा अन्य किसी प्रदेश में रहते हों इसका जानकारी नही मिलती।

60. छाहड

           इस गोत्र का नांदेचा कुल है। कुरु वंश है। देवी सोनिल तथा उत्पत्ति ग्राम छाहेड माना जाता है।

61. कोकराज

         इस गोत्र का नांदेचा कुल है। कुरु वंश का यह गोत्र है तथा इस गोत्र की देवी सोनिल है। इसका उत्पत्ति स्थान कोकरजे है। इस गोक्ष के परिवार भी सम्भवतः नहीं है। श्री राजमल बडजात्या ने इस गोत्र का नाम कोकणराज्या लिखा है।

62. जुगराज्या

         उत्पत्ति नगर जगराजै को छोड़ कर कुल वंश एवं कुलदेवी वे ही हैं जो कोकराज गोत्र की मानी जाती है।

63. मूलराज

         इस गोत्र के कुल का नाम मोहिल है। कुरु वंश है। सोनिल कुल देवी है तथा उत्पत्ति स्थान मूलराज्ये है। बख्तराम साह भी उक्त मत के समर्थक है।

64. लटीवाल

         इस गोत्र के कुल का नाम मोहिल है। कुल देवी का नाम श्रीदेवी एवं सोढा इस गोत्र का वंश है। लटवे इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है।

65. बोरखण्डया

         इस गोत्र की कुल देवी हेमा मानी गयी है। इसका वंश दुजिल है। इसका गहलोत कुल माना है तथा उत्पत्ति स्थान बोरखण्डे है।

66. कुलभण्या

         इस गोत्र की कुल देवी हेमा है। इसका दुजिल वंश तथा कुलभण्ये उत्पत्ति स्थान का नाम है। इस गोत्र के परिवार भी प्रायः नही मिलते है।

67. मोलसरया

         यह सोढा वंशीय गोत्र है। कुल देवी का नाम सकराय है तथा उत्पति स्थान मलसरे है। बख्तराम साह ने इस गोत्र का चन्देल वंश तथा कुल देवी का नाम मातणि लिखा है।

68. लोहट

         इस गोत्र का नाम लावट भी मिलता है। बख्तराम साह ने भी लावट नाम लिखा है। इस गोत्र का मेरिठ वंश का नाम है तथा कुल देवी लोसिल माता है। उत्पत्ति स्थान लोहटे लिखा है.

69. नरपोल्या

         नरपोल्या गोत्र का वंश गौड है। कुलदेवी नांदणि है तथा उत्पत्ति स्थान नरपोले है। बख्तराम साह ने इस गोत्र के कुल का नाम दहरया लिखा है।

           नरपोल्या निरगंधा गोत, कुल है दहरया और नहि होत।

70. भडसाली

         इस गोत्र की कुलदेवी का नाम आमणि है। इसका सोम वंश है। सोलंकी कुल का नाम है। उत्पत्ति नगर का नाम भडसाले है। इस गोत्र के सम्बन्ध में इतिहास लेखक एक मत नही है। घ प्रति में इस गोत्र को भडसाली बज लिखा है तथा इसको बज गोत्र से जोडा है लेकिन बख्तराम साह ने इस गोत्र की यादव कुल, रोहिणी कुलदेवी माना है।

71. वैनाडा

         गोत्र-वैनाडा। वंश-ठीमर। कुलदेवी ओरल। उत्पत्ति स्थान-बनावट।

           इस गोत्र का उल्लेख सभी इतिहासकारों ने  नहो किया है। लेकिन दौसा के बीसपंथी मन्दिर में एक नंदीश्वर की धातु की मूर्ति है जो संवत् 1660 फागुन बुदी 5 गुरुवार के दिन माखूण में वैनाडा गोलीय सा भोजा उसके पुत्र ऊदा, तुपुत्र हेमा, नागा चाला, सांवल राम, दामोदर माता ठाकुरी दादी रुकमा ने उसकी प्रतिष्ठा की थी।

           वैनाडा गोत्रीय परिवार जयपुर, आगरा, लालसेट आदि नगरों में मिलते हैं।

72. कडवागर

         इस गोत्र का उत्पत्ति नगर कडवागरी है। इसका वंश सोम है कुल गौड है तथा कुलदेवी का नाम नांदणी है। बख्तराम साह ने कुलदेवी का नाम नांदिल लिखा है तथा कुल का नाम पडिहार माना है।

73. सृपत्या

         इस गोत्र का नाम सरपत्या एवं सुरपत्या भी मिलता है। इस गोत्र का मोहिल कुल है तथा कुल देवी जीणि माता है। इसका उत्पत्ति स्थान सुरपति नगर है। इस गोत्र के परिवारों के बारे में कोई जानकारी नही मिलती है।

74. दरडोद्या

         गोत्र दरडोद्या, वंश सोम, कुल चौहान, कुल देवी चक्रेश्वरी ग्राम-दरडे, मूल पुरुष राजा दमतारिजी।

75. पिंगुल्या

         गोत्र पिंगुल्या, वंश-सोम, कुल चौहान, कुलदेवी-चक्रेश्वरी, ग्राम का नाम-पिंगुल।

76. भुलाण्यां

         गोत्र-भुलाण्यां, भुलणा, वंश-सोम, कुल चौहान, कुलदेवी-चक्रेश्वरी, ग्राम का नाम-भूलणा।

           इस गोत्र के प्रथम पुरुष भूघरमल जी थे। जो भूलणा ग्राम के ठाकुर थे।

77. वनमाली

         इसका दूसरा नाम वनमाल्या भी मिलता है। क, ग, एवं घ प्रति में इस गोत्र के वंश का नाम चौहान एवं कुल देवी चक्रेश्वरी दिया हुआ है। इस गोत्र का उदगम बनमाले ग्राम से हुआ था। ख प्रति से इस वंश का गोत्र यादव एवं कुल देवी रोहिणी लिखा है। पं. बख्तराम साह ने भी वनमाली गोत्र का यादव कुल एवं रोहिणी देवी लिखा है।

78. पीतल्या

         गोत्र-पीतल्या, वंश-सोम, कुल चौहाण, कुल देवी चक्रेश्वरी ग्राम का नाम-पीतले। पं. बख्तराम ने बुद्ध विलास में इसी बात का समर्थन किया है।

79. अरडक

         अरडक गोत्र की गिनती प्रारम्भ के 14 गोत्रों में की गयी है। इसका वंश सोम, कुल चौहान, कुलदेवी चक्रेश्वरी है। ख प्रति में इस गोत्र के इतिहास में इस गोत्र के मूल पुरुष का नाम श्री अजबसिंह जी गिनाया गया है। साथ में यह भी लिखा है कि (आठे चौदासि चाकी फरेजे नहीं। चाकी को अपमान करे नही।)

80. चिरकन्या / चिरकनां

         यह गोत्र आचार्य जिनसेन द्वारा निर्धारित 14 गोत्रों में से अन्तिम गोत्र माना गया है। इसके कुल वंश, देवी वही है जो इस समूह के अन्य गोत्रों की है। लेकिन बुद्धिविलास में चिरकन्या गोत्र की गिनती इक्ष्वाकु वंश में की गयी है और चक्रेश्वरी के स्थान पर नांदिल देवी को इस गोत्र की देवी बतलाया है।

81. जलवाण्या

         वंश-सोम/कुल-कुछवाहा/नगर-जलवाणे/जलभणे कुलदेवी-जमवाय। इस गोत्र का दूसरा नाम जलभाण्या भी मिलता है। इस गोत्र के परिवार भी संभवत/ कहीं नहीं मिलते हैं।

82. सांभरया

         वंश-सोम/कुल-चौहान/नगर-सांभरि/देवी-चक्रेशवरी/ जोबनेर के  मंदिर वाली पाण्डुलिपि में कुलदेवी का नाम सांभराय लिखा है। यदि प्रस्तुत सांभर ही इस गोत्र का उत्पत्ति स्थान है तो इससे इतिहास के कितने ही अध खुले पृष्ट खुल जावेंगे तथा खण्डेला की सीमा सांभर तक आ जावेगी।

83. राजभद्र

         गोत्र-राजभद्र/ वंश-सोम/कुल-चौहाण/ नगर-स्थान राजभद्र/ कुलदेवी-चक्रेश्नरी/ प्रथम पुरुष-रामसिंह।

84. साखूया

         गोत्र-साखूण्या। वेश-सोढा। उत्पत्ति स्थान साखूणौ अथवा साखूणि। कुलदेवी सकराय। ख प्रति के अनुसार इस गोत्र केवेश का नाम सांखुला है। भाट के अनुसार इस गोत्र की कुल देवी आमना है। इस गोत्र के प्रथम पुरुष ठाकुर श्याम सिंह जी माने जाते है जिन्होनें संवत् 990 में श्रावक व्रत ग्रहण किये थे।

84 गोत्रों के अतिरिक्त गोत्र

         उक्त 84 गोत्रों के अतिरिक्त, खण्डेलवाल जैन समाज के ही निम्न गोत्रों का उल्लेख ग्रंथ प्रशस्तियों, मूर्ति लेखों में और मिलता है-

        साधु   साधु गोत्र, ठाकुल्यावाल, मेलूका, नायक, खाटड्या, सरस्वती, कुककुरा, वोठवोड, कोटरावकल, भतावड्या, बीजुण, कांधावाल, रिन्धिया एवं सांगरिया

Monday, September 28, 2015

Please Forgive Me For All My Mistakes

Please Forget And Forgive
I express my Kshama Bhawana for everyone. I hope you all will forgive me and forget all mistakes committed willingly or unwillingly by me during last year and oblige me.
Further I promise , I will try my best not to hurt you in coming days.
Uttam Kshama

Danendra Jain


Mere se jane -anjane me hui bhul ke liye mai kshama prarthi hun.  
Asha hai aap hame khama kar hame anugrahit karenge.  ----

aapka apna Danendra Jain
28.09.2015


If you have time, please listen following message
by Sister B K Shivani
Carefully,pacefully, attentively and full focus

Click Here to Listen "Harmony In Relation" By Sister B K Shivani

जिस प्रकार अग्नि सब कुछ जला कर ख़ाक कर देती है, उसी प्रकार क्रोध भी इस जीवन को जलाकर ख़ाक कर देता है |
जिस प्रकार जल अग्नि को शांत कर देता है, उसी प्रकार क्षमा रूपी जल भी क्रोध रूपी अग्नि को शांत कर देता है |
अतः बंधुओं अपने जीवन को ख़ाक होने से बचाने हेतु आइये हम अपने जीवन को क्षमा रूपी जल से सींचे ताकि इस आतम रूपी बगिया के धर्म रूपी वृक्ष में संयम रूपी फूल खिले और मोक्ष रूपी फल सभी को प्राप्त हों|
जन्म से लेकर मोक्ष तक की इस अनंत यात्रा का अंत करने की पहली सीढ़ी क्षमा है तो आइये आप सभी को क्षमा करके एवं सभी से क्षमा मांग कर इस मोक्ष सीढ़ी में पहला पग रखना चाहता हूँ|
ॐ नमः सबको क्षमा सबसे क्षमा


Read Following too collected from other website


I forgive all living beings of the Universe,
May all living beings forgive me for my faults.
I have friendship for all living beings,
I do not have any animosity towards anybody!

This aphorism (Sutra) is one of the humble and great way to ask for forgiveness with the unity of the speech, mind, and body.

The process of shredding our karmäs (wrong acts / works) really begins by asking for forgiveness with true feelings, and to take the vow not to repeat mistakes. The quality of the forgiveness requires humility (vinay - absence of ego) and suppression of anger.

In one of his Holy discourse Lord Mahavir (the 24th Tirthankara - prophet of Jainism) has said "Forgiveness (Kshama) is the ornament of a brave person".
The Bravery does not lie in proving the power but in Forgiving. At times we also experience that to Forgive one is the most difficult task in life.

On this auspicious occasion of Kshamavani Divas, I respectfully seek Kshama from you and all living beings for hurting the feelings of any one, knowingly or unknowingly, in thought, word and action (mana, vachana aur kaya) during the past year, directly or indirectly and knowingly or unknowingly in any form, for any unpleasant and unwanted happenings.

I also forgive all living beings that may have caused any pain and suffering to me. My friendship be with all living beings and no hostility towards anyone.

"Forgiveness Day" is a day of forgiving and seeking forgiveness for the followers of Jainism. It is celebrated on the Samvatsari, the last day of the annual Paryusana festival, which coincides with the Chaturthi, 4th day of Shukla Paksha, in the holy month of Bhadrapad, according to the Jain calendar. "Micchami Dukkadam" is the common phrase when asking for forgiveness. It is a Prakrit phrase meaning, May all the evil that has been done be fruitless.

This year 2015 , Kshamavani Diwas is  being celebrated today on September 28. On this sacred day, every member of the Jain community approaches everyone, irrespective of religion, and begs for forgiveness for all their faults or mistakes, committed either knowingly or unknowingly. Thus relieved of the heavy burden hanging over their head of the sins of yesteryears, they start life afresh, living in peaceful co-existence with others. 

Indeed, this day is not merely a traditional ritual, but a first step on their path to liberation or salvation, the final goal of every man's life, according to the teachings of Jainism.

Mahavira said we should forgive our own soul first. To forgive others is a practical application of this supreme forgiveness. It is the path of spiritual purification. Mahavira said: "The one whom you hurt or kill is you. All souls are equal and similar and have the same nature and qualities". Ahimsa Paramo Dharma. Anger begets more anger and forgiveness and love beget more forgiveness and love. Forgiveness benefits both the forgiver and the forgiven.

Forgiveness is the other name of non-violence (Ahimsa) which shows the right path of 'Live and Let Live' to one and all. Forgiveness teaches us Ahimsa (non-violence) and through ahimsa we should learn to practice forbearance.


Khamemi Savve Jiva            I forgive all living beings.
Savve Jiva Khamantu me   May all souls forgive me,
Mitti me Savva Bhooesu     I am friendly terms with all,
Veram Majjham Na Kenvi   I have no animosity toward any soul.
Michchhami Dukkadam   May all my faults be dissolved.

खम्मामि सव्व जीवेषु सव्वे जीवा खमन्तु में, मित्ति में सव्व भू ए सू वैरम् मज्झणम् केण वि |
Khämemi Savve Jivä, Savve Jivä Khamantu Mi Mitti Me Savva bhuesu, Veram majjham na Kenai.

[सब जीवों को मै क्षमा करता हूं, सब जीव मुझे क्षमा करे | सब जीवो से मेरा मैत्री भाव रहे, किसी से वैर-भाव नही रहे |

Kshamavani Parva celebrates forgiveness as a way to a life of love, friendship, peace and harmony. When you forgive, you stop feeling resentful; there is no more indignation or anger against another for a perceived offence, difference or mistake; there is no clamour for punishment. It means the end of violence (Himsa).




Thursday, September 17, 2015

Message For People Who Protest Ban On Meat Sale

Dear friends,

I know many of you are very angry these days as we Jains are supposed to have taken your rights to eat meat. We intolerant bunch of goons have reportedly taken away your personal liberty. We are the Taliban, if some liberal activists are to be believed.
All these become easy for you to believe because these activists are in media and they control what you read in the newspapers or hear on TV. It also becomes easy for you to think they are telling the truth because the current ruling party, the BJP, has a national president who is Jain by religion.

Today, the media claimed that Haryana, another BJP ruled state, too had banned meat. Whereas the truth was that it had just appealed some slaughter houses to remain closed for Paryushan Parva, our festival of self purification. An appeal was presented as a ban to you!

And this has led people to believe that Jains are asking for such bans. I say this because I have been subjected to such taunts and abuse on Twitter. People have mocked my faith, my customs, and some even threatened to throw meats loaves in my house in protest.
And I wonder why so much hate! Because I didn’t even ask for this ban!

The media never cared to tell you but I hope you know the truth that this ban has existed for decades. And no, it is not a ban on you eating any meat – you are still free to do that – but a ban on slaughter houses for a few days and a ban on sale of meat in some selected regions of India. In fact, in states like Rajasthan, the duration of this annual ban has actually been reduced this year when compared with the duration during the Congress rule.

Yes, you are going to tell me that it doesn’t justify the ban just because it existed for all these years. I am not even telling you that. But just take a chill pill for a moment, and think – if this ban existed for so many decades, why did you not hear any outrage or protest over this all these years?

Have you not become pawn in the politics of some selected parties? Congress was the party that introduced such bans in many areas and now they are protesting against the same. Shiv Sena too was a party to the decision by virtue of controlling local bodies, and even they are now protesting.

Do you seriously not see the politics here? And this politics is being helped by those in the media who wear the mask of neutrality and intellectualism.

All these decades nobody had a problem as they thought it was not a big deal if the slaughter houses remain closed for a few days in a year, that too in some areas where Jain population reside. It was about giving up limited personal liberty on select days to show respect to fellow Indians. Even courts upheld this view.

Don’t we give up our personal liberties on 3 national holidays? They are dry days and we can’t buy liquor. Technically that is also ban, and that is nationwide. This meat ban is not nationwide.

Don’t we give up our personal liberties when we hear loud azaan five times a day from a local mosque or loud music from a local pandal during various pujas? Remember, personal liberty is also about choosing what you are exposed to.

Nearly all leading restaurants and meat shops offer only halaal meat in order to respect Muslim sentiments. Will it not be unreasonable if Hindus start demanding jhatka meat just to insist on personal choice and liberty? Hindus don’t insist on that because they have “adjusted” to accommodate fellow Indians.

Yes, apart from “jugaad”, other thing we Indian do is “adjusting”. We care for each other and adjust to make space for each other.
But now it looks like my country is all set to demand individual liberties.
And it’s not a bad thing. We as a society have to evolve.

Ever since Narendra Modi became the Prime Minister of India, many people have evolved and started growing up (by their own admission). Our stand up comedians have evolved – they don’t make the same jokes. Our journalists have evolved – they have now started seeing things (like this meat ban) that they were blind to all these years.

So my dear friend angry with Jains over meat ban, you too have the right to evolve. We all have the right to evolve. I just hope that this evolution and growing up is not selective.
Keeping this in mind, I appeal to Prime Minister Narendra Modi to lift this meat ban as it is hurting the sentiments of Indians who are evolving very fast. Sentiments of Jains will be taken care of by those who care and those who can adjust a little.

We Jains might appeal to people in our localities to close meat shops for a few days and if they do that voluntarily, we will be happy that they care for us. But please don’t enforce anything.
I can’t take any more hate due to my surname.
  • written by Ankit Jain (on Twitter @indiantweeter)
http://www.opindia.com/2015/09/open-letter-to-fellow-indians-from-a-jain-youth-over-meat-ban/


My views are as under:----------------

 
People of India should understand true colours of such leaders. Person like Thakres, Lalu,Mulayam, Mayawati, are least concerned for mankind, they are concerned for vote bank.


Jains are not significant in number and hence politicians of all colours came together to stop BJP or anyone who suggested ban on sale of meat ,that too only for four days. Politicians do not think what is good for humanity and what is good for animals life or what is good for keeping environment pollution free. They ignite fire on emotional issues , divide voters in different segments and then try to win the election . They can go to any ugly extent for the sake of vote, for the sake of power and money.

 
Jains have true faith in true non-violence and they do not Believe in killing even thought of others. Jains follow syadwad (
Anekantwad, or the principle of plurality of viewpoints) theory and believes in adjustment and recnciliation. They respect views of others and want that people should follow the principles of non-violence in thoughts and action, not only for preaching sermons to others. Politicians who are greedy of money, power and post go to Gandhi samadhi to act as if they are followers of Gandhi's non-violence.


Politicians pay tribute to Gandhiji every now and then. They take oath by keeping hands on Bhagwat Gita or Kuran that they will follow the path of Non-violence , teachings of Gandhiji and follow in true spirit what is written in Constitution. But unfortunately politicians in general  do not act what they preach and they do not think what they speak. Their acts and deeds, and thoughts are altogether different. As a matter of fact they are ready to kill anyone and crush thoughts of anyone if it helps them in getting power ,post and money.

People who eat meat will never like ban on beef. Meat eaters do not know the origin of meat when they eat it in some hotel or public bhoj. It should not be astonishing to anyone that meat eaters or beef eaters can also be man eaters. There may be people who find test in Human flash too. Flash eaters do not hesitate in killing not only an animal but also in killing a human being for serving self interest. This is universally truth, and not only for India. Violence is growing worldwide only because of these people who find test in flash of animals, including that of human being.


We Jains believe in giving respect to thought of everyone and by our action others will be motivated. Let others cry and remain non-vegetarians or meat lovers. respect them too, this is philosophy of our great religion. Killing and attacking thought of others is also a type of violence. Jainism believes in giving respect to all faiths and all thoughts , knows the value of reconciliation and hence propagate the theory of Syadvad (
Anekantwad, or the principle of plurality of viewpoints). But they must propagate and spread the principles of non-violence and love for all beings to awaken those who are in darkness of knowledge. 


Meat eater are far far bigger in number than non-eaters. You are right that use of pressure  in the larger interest of community is advisable from the principles of Non-violence and the same was preached by Gandhi ji too. But it does not hold good in case of meat ban.

But the question here is whether violence or political pressure  can stop violence. Even Lord Mahavira moved from one corner to other to spread his message of non violence. But still more than 90% of population are meat eaters. And  it is not at all justified to stop meat eater  eating meat or selling meat because after all it is their choice in the same way as Jains have choice not to eat meat. All are free to have their choice and choose their eatables .


However Jains should try to convince  meat eaters by scientific logics and proofs that eating meat is injurious to health as well as it affects balance of nature created by GOD. Meat eater stop eating meat and become purely vegetarian when they fall ill and Doctors suggest them to stop eating meat.

Can microscopically small population of Jain can stop violent thoughts and actions of larger community by using sword or by resorting to violence? 
And is such act not contradictory and in conflict with  Jain principles of reconciliation and respect to all?

Jain should rather move from one corner to other to spread the principles of Non-violence. But unfortunately majority of Jains are busy in Ahar Bihar of Jain Munis and Jain Munis are busy in conducting Bidhans, Organising Panch Kalyanak and construction of new temples in Madhuwan only.

Who will then complete the unfinished task of Lord Mahavira?

Can you imagine that mere construction of hundreds of costly Jain Temples in one place or in some places can help in motivating followers of non-violence or eaters of meat or beef to stop such practices? Are these temples helpful in spreading the principles of Jainism?

Keeping in view the present position of Jains and that of greedy politicians, it is advisable that Jains come out with silent protest march all over the country , specially in Maharashtra and more empathetically in Mumbai to express annoyance against Thakres . There are a good number of rich business men in Jains, they can spend crores of rupees to distribute pamphlets and placing big size hoardings all over the country displaying the message of benefits of non-violence for mankind and protesting the acts of Thakres.

Please note it , that Prime Miister of India Mr.  Narendra Modi, Chief Minister  Of Maharashtra Mr. Fernavis, CMs of many other states and a large section of Indian population are also supporter of  ban on sale of beef . It is a positive point. However sale on meat cannot be banned fully until there are eaters in good numbers. But if government want to respect the sentiments of  Lovers of Non-Violence, they should at least ensure that act of cutting or butchering animals in not performed in public place and these materials are not sold by displaying them in public domain. Sale of meat can be confined to some covered shops only and it can be ensured in entire country without giving rise to any controversy. Jains have to come forward in spreading the message of Non-violence by conducing various meetings with non-Jains, through newspapers, through free literatures and so on. Jain should stop focusing on construction of new temples at Madhuwan and try to teach people who are on wrong path due to lack of knowledge and lack of understanding the value of non-violence.

Merely abusing on facebook or sending message on Whatsapp will not serve the desired purpose.


Following is the message of Lord Mahavira

The spiritual power and moral grandeur of Mahavir's teachings impressed the masses. He made religion simple and natural, free from elaborate ritual complexities. His teachings reflected the popular impulse towards internal beauty and harmony of the soul.


His message of nonviolence (Ahimsa), truth (Satya), non-stealing (Achaurya), celibacy (Brahma-charya), and non-possession (Aparigraha) is full of universal compassion. He said that,

"A living body is not merely an integration of limbs and flesh but it is the abode of the soul which potentially has perfect perception(Anant-darshana), perfect knowledge (Anant-jnana), perfect power (Anant-virya), and perfect bliss (Anant-sukha)."

Mahavir's message reflects freedom and spiritual joy of the living being.


Mahavir was quite successful in eradicating from human intellect the conception of God as creator, protector, and destroyer. He also denounced the worship of gods and goddesses as a means of salvation. He taught the idea of supremacy of human life and stressed the importance of the positive attitude of life.

Lord Mahavir also preached the gospel of universal love, emphasizing that all living beings, irrespective of their size, shape, and form how spiritually developed or under-developed, are equal and we should love and respect them.

Jainism existed before Mahavir, and his teachings were based on those of his predecessors. Thus, unlike Buddha, Mahavir was more of a reformer and propagator of an existing religious order than the founder of a new faith. He followed the well established creed of his redecessor Tirthankara Parshvanath. 

However, Mahavir did reorganize the philosophical tenets of Jainism to correspond to his times. Lord Mahavir preached five great vows while Lord Parshva preached four great vows.
In the matters of spiritual advancement, as envisioned by Mahavir, both men and women are on an equal footing. 

The lure of renunciation and liberation attracted women as well. Many women followed Mahavir's path and renounced the world in search of ultimate happiness.

In a few centuries after Mahavir's nirvana, Jain religious order (Sangha) grew more and more complex. There were schisms on some minor points although they did not affect the original doctrines as preached by the Tirthankars. Later generations saw the introduction of ritualistic complexities which almost placed Mahavir and other Tirthankars on the throne of Hindu deities.

PRINCIPLES OF JAINISM
The fundamental principles of Jainism can be briefly stated as follows.
  1. The first fundamental principle of Jainism is that, man's personality is dual, that is, material and spiritual. Jaina philosophy regards that every mundane soul is bound by subtle particles of matter known as Karma from the very beginning. It considers that just as gold is found in an alloy form in the mines, in the same way mundane souls are found along with the Karma bondage from time eternal. The impurity of the mundane soul is thus treated as an existing condition.
  2. The second principle that man is not perfect is based on the first principle. The imperfectness in man is attributed to the existence of Karma in his soul. The human soul is in a position to attain perfection and in that true and eternal state it is endowed with four characteristics, viz., Ananta-darsana, Ananta-Jnana, Ananta-virya and Ananta-sukha, i. e., infinite perception or faith, infinite knowledge, infinite power and infinite bliss.
  3. Even though man is not perfect, the third principle states that by his spiritual nature man can and must control his material nature. It is only after the entire subjugation of matter that the soul attains perfection, freedom and happiness. It is emphatically maintained that man will be able to sail across the ocean of births and achieve perfection through the control of senses and thought.
  4. The last basic principle stresses that it is only each individual that can separate his own soul and the matter combined with it. The separation cannot be effected by any other person. This means that man himself, and he alone, is responsible for all that is good or bad in his life. He cannot absolve himself from the responsibility of experiencing the fruits of his actions. This principle distinguishes Jainism from other religions, e. g., Christianity, Islam and Hinduism.
No God, nor His prophet or deputy or beloved can interfere with human life. The soul, and that alone, is directly and necessarily responsible for all that it does. God is regarded as completely unconcerned with creation of the universe or with any happening in the universe. The universe goes on of its own accord. Because of this definite attitude towards God, Jainism is accused of being atheistic. It is true in the sense that Jainism does not attribute the creation of universe to God. But at the same time Jainism cannot be labeled as atheistic because it believes in Godhood, in innumerable gods, in Punya and Papa, i. e., merit and demerit, in religious practices, etc. According to Jainism the emancipated soul is considered as God and it is absolutely not concerned with the task of creation of this world.

Anekantwad-A blessing from Jinas;

A tool for Compassionate Communication

Hema Pokharna, Ph.D. ,
Researcher - University of Chicago. , Director - Journeys of Life


One of the important aspects of Jainism is the concept of Anekantwad, or the principle of plurality of viewpoints. It is central to the idea of tolerance and mutual respect. Each person has a perception of the world which is a mix of both truth and ignorance. These perceptions are valid but are incomplete views of reality. This concept is usually explained with the aid of the parable of seven blind men and an elephant. The story demonstrates that truth can be visualized from seven angles and these views of truth are mere additions to the human knowledge. When viewed together, they present the picture of universal reality. I recently read that Mahatma Gandhi agreed with this, saying, "It has been my experience that I am always true from my point of view, and often wrong from the point of view of my honest critics. I know we are both right from our respective points of view."
Our present challenge is that we live in a world of difference. Yet, as we are interdependent we have to live together. Anekantwad has a lot to offer us and help us learn to live with our differences in peace and harmony. I would like us Jains to use Anekantwad as an instrument to facilitate our conversations and dialogues respectfully in a nonviolent manner when we run into the blind men (represented in the story), who seem to appear in our lives and promote division and injustice, betraying the very ideals and teachings that lie at the heart of Ahimsa. Can Jains take this challenge of shaping the lives of billions in wise and wonderful ways Anekantwad offers? There is hope that the world can be transformed through dialogues and relationships can be nurtured among people of differences by working towards a just, peaceful and sustainable future. The well-being of the Earth and all life depends on this collaboration.
As we begin to chart our course of existence on the basis of Anekantwad, we must master the art of choosing. We make choices and decisions from the most day to day mundane to those forks-in-the-road choices which have great consequences. If we can be guided by the principle "Mitti me savva bhuveshu” (Universal friendliness) the process of making a choice can be made easier. Practice of this principle requires learning to recognize that SPIRIT (atman/soul) is an invisible force also made visible in the blind men we encounter in our daily lives who make choices and live in ways that are very different than what Jains would do and is in conflict with our values of Ahimsa. At such junctures Jains can stop and ask themselves if their reactions and responses to these blind men are guided by friendship and nonviolence?Can we apply the principle of Anekantwad and explore what choices do we have in our responses? For example how do we relate to people who eat meat or to people who express their views (however unreasonable or opportunistic they may be) by damaging Jain Murtis? Or how do we stand by our Buddhist brothers who break down in the face of violence and cruelty? How can we use Anekantwad to motivate people to renounce violence and take responsibility for their actions without furthering violence by blaming them, or punishing them in anyway? To include understanding of Anekantwad in our thinking requires us to consciously learn how to express our selves in a larger context of expansion and with an intention to empower all concerned. It is the conscious decision to live our lives with joy and friendliness. It is a chosen approach to life, a chosen attitude and a constant awareness. Practice of friendship is a necessary beginning to recognize and practice nonviolence and develop the quality of wholesome life prescribed to us by the Jinas.
Jainism is a way of life, experimented and perfected by humans and shared by those who have attained perfect knowledge, omniscience and self-control by their own personal efforts and have been liberated from the bonds of worldly existence, the cycle of births and deaths; although the supreme ideal of Jain religion is nonviolence (Ahimsa), equal kindness, and reverence for all forms of life in speech, thought, and action. The practice comes from the supreme tool of Anekantwad. Anekantwad is the tool for transformation of human passions like desire, hatred, anger and greed to love and compassion for all living beings. Literally, Jina does mean one who has transformed oneself and acquired a special quality of response from within which one is devoid of reaction based on hormones or external circumstances but a response from one’s innate ability and generative, infinite and abundant source of compassion.
Like research, Anekantwad is a perspective. It is the original mind asking a question and setting an experiment to answer in a bigger and bolder way that benefits all involved. It is not about pebble picking but about building magnificent castles.
The path of universal friendliness and love is the process of increasing access to the unlimited potential we have and moving with anticipation of its enfoldment by being open, alert, guided, transformed, fulfilled and healed to wholeness.Anekantwad is the ability to not only count the seeds in an apple but to develop a skill and ability to make visible the apples in a seed and develop the art of possibility. This becomes an art and can be engaged only through alert experiences and moving forward with trust and patience to wait for wholesome possibilities to unfold. This is the human search. This search although partially predetermined in the karmic sense definitely does not run through predetermined paths. If the paths were predetermined or in control of an external force the realm of possibility would not exist and the whole beauty of aliveness would be lost. And as Victor Hugo says "Its nothing to die; its frightful not to live”, Jains have to sharpen their Anekantwad "saw” to face and embody the moral code of "Live and Let Live” using the principle of Ahimsa We have to learn to choose to be strong when we have a default option of being miserable and knowing that the effort and work is the same. as the directing idea and evolving force of the living.
Ahimsa is the conscious decision to live our lives. In the midst of turmoil, pain and adversity, in bad times, Jains have been encouraged to maintain samatabhav (equanimity) or connection with the divine self and manifest peace and bliss.It also means to keep one’s mind unagitated and calm in situations of misery and happiness, gain and loss, victory and defeat etc. without losing one’s balance or evenness. To practice and maintain samtabhav, it requires a decision on our part - it is a chosen approach to life, a chosen attitude and a chosen awareness. Living with such awareness means finding ways to overcome inappropriate demands, injustice, and even abuse, and not engaging in fights in which everyone loses. It is to examine things we do regardless of our current life situation and realize that we have a power within us to do things with more love and respect. Anekantwad is not only about us improving ourselves but learning to let go of what blocks our heart. In the infinity of life all is perfect, whole and complete. Anekantwad is about keeping our selves centered and connected with the purpose and potential of our lives as we unfold the sources of unhappiness and disconnection from our vitality. The awareness and moment to moment practice of Ahimsa generates the compassion within us, thus perfecting the art of Anekantwad. This awareness becomes the vehicle to spread this bliss to the world around us. In modern world when countless opinions can be twittered, a need arises for a virtuoso to channel the different vectors of opinions in a unified direction of peace and harmony, instead of letting them fly to destruct each other.It is for us to use our Jain heritage to change ourselves and the world around us for the best.